पानीपूरी में मिलाता था टॉयलेट क्लीनर स्वाद बढ़ने के लिए

इंडिया में सभी शेहरो में लोग पानीपूरी खाने के बेहद शौक़ीन माने जाते है. महिलाये और लडकिय तो खासकर पानीपूरी के लिए दीवानी होती है. पानिपुरी बेचने वाले भी इसके स्वाद और जायके को बढ़ने के लिए अलग अलग मसालों का इस्तेमाल करते है. पर यहाँ तो हद्द ही हो गयी जब एक पानीपूरी वाले ने  टॉयलेट क्लीनर का इस्तेमाल किया स्वाद बढ़ाने के लिए. मामला अहमदाबाद का है इस इलाके में एक पानी पूरी वेंडर गोलगप्पे के साथ दिए जाने वाले पानी का जायका बढ़ाने के लिए उसमें टॉइलट क्लीनर मिलाता था। मामला 2009 का है,पानी पूरी के पानी में टॉइलट क्लीनर मिलाने के दोषी को 6 महीने की सजा सुनाई गई है।

अहमदाबाद नगर निगम को शिकायत मिली की लाल दरवाजा इलाके में एक पानिपुरी बेचने वाला वेंडर कुछ आपत्तिजनक चीज़ मिलकर पानीपूरी बेच रहा है. इस शिकायत के बाद निगम ने सैंपल लिया और टेस्टिंग के लिए लैब भेजा। यह भी शिकायत थी की वह अपने रेडी गटर के पास खड़ी करता है और पास की सड़क भी बचे हुए पानी और पानीपुरी के फेंके जाने से खराब हो रही थी। जब लैब टेस्टिंग की रिपोर्ट आई तो सभी यह जानकार हैरान थे की गोलगप्पे के पानी में ऐसा ऐसिड मिला जो टॉइलट क्लीनर में इस्तेमाल किया जाता है।


टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पानीपूरी वेंडर चेतन नान्जी के खिलाफ मिलावट का केस दर्ज किया गया है. इस मामले में उसे दोषी मानते हुए ६ महीने कारावास की सज़ा सुनाई गयी है. आरोपी चेतन ने कहा कि उसे दोषी करार देने के लिए कोर्ट के पास ज्यादा सबूत नहीं हैं और उसे छोड़ दिया जाना चाहिए. वकील ने गवाहों और सबूतों के आधार पर दलील दी कि बहुत सारे लोग पानी पूरी खाना पसंद करते हैं और यह उनकी सेहत के साथ खिलवाड़ है। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने दोषी वेंडर को 6 महीने जेल की सजा सुनाई।

loading...